इंद्रप्रस्थ विश्व संवाद केन्द्र


नई दिल्ली , 8 फरवरी। भारत सरकार के पूर्व केंद्रीय मंत्री और सांसद डॉ. हर्षवर्धन ने मंगलवार को आईपी एक्सटेंशन , आईपेक्स भवन के पास प्लेटो पब्लिक स्कूल में वरिष्ठ पत्रकार , दिल्ली पत्रकार संघ के अध्यक्ष रहे , लोकतंत्र सेनानी और सामाजिक कार्यकर्ता स्वर्गीय हेमंत कुमार विश्नोई मार्ग का नामकरण किया।

 

इस मौके पर उन्होंने कहा कि पत्रकार हेमंत बिश्नोई से उनका संबंध 1969 से लगातार रहा और आज उनके नाम पर सडक़ का नामकरण करते हुए वे बहुत भावुक महसूस कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि स्वर्गीय हेमंत कुमार विश्नोई निस्वार्थ भाव से विद्यार्थी परिषद से लेकर दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ के महासचिव और जेपी आंदोलन में 19 महीने तक जेल में रहे। आज के समय में ऐसा व्यक्ति विरले देखा जाता है। डॉ. हर्षवर्धन स्वर्गीय हेमंत कुमार विश्नोई मार्ग के नामकरण समारोह में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे।

 

हेमंत कुमार विश्नोई को याद करते हुए डॉ. हर्षवर्धन ने कहा की वे चाहते तो निगम पार्षद, विधायक, सांसद बनने में उनको कोई बाधा नहीं होती. उनका कृतित्व बहुत बड़ा था लेकिन उन्होंने कभी इच्छा व्यक्त नहीं की। आपातकाल के समय स्वर्गीय नानाजी देशमुख, सुब्रह्मण्यम स्वामी, केदारनाथ साहनी जैसे कुछ भूमिगत लोगों में विश्नोई जी का नाम भी शुमार था। हेमंत विश्नोई दिल्ली पत्रकार संघ के अध्यक्ष रहे थे और इस संगठन में नन्द किशोर त्रिखा, के.एन गुप्ता, राजेन्द्र प्रभु, अचुत्यानंद मिश्र जैसे कई लोग शामिल रहे। पत्रकारिता में भी वे एक मिसाल थे और हिन्दुस्थान समाचार के संपादक, नवभारत टाइम्स में वरिष्ठ पत्रकार रहे। पत्रकारिता के लिए वे आजीवन लड़ते रहे और संगठन के लोगों को नई ऊर्जा और नए संकल्प के साथ हमेशा सक्रिय रहने की उन्होंने सीख दी। उनकी पत्नी इस समय राष्ट्रवादी महिला संगठन राष्ट्र सेविका समिति में कार्य   कर रही हैं।

 

कार्यक्रम में बतौर अतिथि वरिष्ठ पत्रकार दिल्ली पत्रकार संघ के महासचिव जनसत्ता के वरिष्ठ पत्रकार अमलेश राजू ने कहा कि हेमंत जी नई पीढ़ी के मार्गदर्शक, युवाओं के प्रेरणा स्रोत हैं, उनकी कथनी और करनी में कोई अंतर नहीं था। एनयूजे (आई) की समृद्ध परंपरा के वे समर्पित नेता थे। हेमंत जी जो कहते थे वही करते थे यह उनकी सबसे बड़ी खूबी थी। आज बहुत सारे लोगों में यह नहीं दिखता है। वह ऐसे व्यक्ति थे जो अंतिम समय तक दिल्ली पत्रकार संघ जैसे संगठनों के लिए समर्पित रहे।

 

अमलेश राजू ने कहा कि उन्हें हेमंत जी के मार्गदर्शन में 2 दशक तक काम करने का सौभाग्य मिला और 2019 में दिल्ली पत्रकार संघ चुनाव में हेमंत जी चुनाव अधिकारी रहे। उनका आचरण अपनाने में आज हम जैसे लोगों को लम्बा समय लग जाएगा। लेकिन जिस तरह उन्होंने देश में आपातकाल के समय जेपी आन्दोलन में, बाद में पत्रकारिता के लिए समर्पित रहे उसे सालों तक याद रखा जाएगा।

 

एक पत्रकार के रूप में उन्होंने हिन्दुस्थान समाचार और नवभारत टाइम्स में रहते हुए भी प्रबंधन के खिलाफ आवाज उठाई। आज हेमंत जी जैसे लोगों की पत्रकार संगठनों को सख्त जरूरत है। वे हमें समय से पूर्व छोड़कर चले गए।

 

पूर्वी दिल्ली के मेयर श्याम सुंदर अग्रवाल ने कहा की हेमंत जी उनके लिए हमेशा बड़े भाई की तरह खड़े रहे और हर विपदा में 24 घंटे उनके मार्गदर्शक और अभिभावक की तरह रहे। आज उनका यह सौभाग्य है कि वह हेमंत विश्नोई के नाम पर सड़क का नामकरण कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हेमंत विश्नोई पत्रकारिता में एक मिसाल थे। पत्रकारिता के लिए वे आजीवन लड़ते रहे और संगठन के लोगों को नई ऊर्जा और नए संकल्प के साथ हमेशा सक्रिय रहने की सीख दी।

 

पूर्व मेयर निर्मल जैन ने कहा कि हेमंत जी उनके सहपाठी और भाई की तरह रहे उन्होंने एक साथ संगठन के लिए कई कार्य किये। वे भारतीय परंपरा के ऋषि पुरुष थे जिन्हें आज की पीढ़ी को याद करने की सख्त जरूरत है। विधायक ओमप्रकाश शर्मा ने कहा कि हेमंत जी वैसे पत्रकार थे जिनसे कोई भी व्यक्ति अपने पक्ष में खबर लिखाने की सोच भी नहीं सकता था।

 

इस अवसर पर विश्वास नगर के विधायक ओपी शर्मा , स्थाई समिति के अध्यक्ष बीर सिंह पंवार , शाहदरा दक्षिणी क्षेत्र की अध्यक्ष हिमांशी पांडे और भाजपा जिला अध्यक्ष शाहदरा रामकिशोर शर्मा, स्थाई समिति के पूर्व अध्यक्ष संदीप कपूर सहित कई लोग उपस्थित थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता निगम पार्षद अपर्णा गोयल ने की।